क्या है कोरोना वायरस और क्या हैं इसके खतरे

कोरोना वायरस , एक विशेष प्रकार के वायरस का एक समूह है. ये प्रायः पक्षियों और स्तनधारी जानवरों में पाया जाता है. कोरोना वायरस दुनिया के लिए नया नहीं है. इससे पहले भी इबोला और सार्स जैसे कोरोना वायरस सामने आ चुके हैं. इस समय चीन में जिस कोरोना वायरस ने कहर मचाया हुआ है उसे – Covid-19 नाम दिया गया है. कोरोना वायरस प्रायः पक्षियों और जानवरों में होता है और वहीँ से मनुष्यों में प्रविष्ट होता है. पक्षियों और जानवरों में कोरोना वायरस के लक्षण भिन्न भिन्न हो सकते हैं. जैसे मुर्गियों में कोरोना वायरस सांस की बीमारी का कारण बनता हैं जबकि गाय और सूअर जैसे जानवरों में कोरोना वायरस से डायरिया हो जाता है. मनुष्यों में कोरोना वायरस के लक्षण प्रायः न्यूमोनिया या फ्लू जैसे होते हैं. इसकी न्यूमोनिया की शुरुआत खांसी और बुखार से होती है जो आगे चलकर शरीर के महत्वपूर्ण अंगो जैसे किडनी को निष्क्रिय कर सकता है. इस न्यूमोनिया पर किसी एंटी बायोटिक दवा का असर नहीं होता है.

Covid -19 कोरोना वायरस जानवरों के मांस से मनुष्यों में प्रविष्ट हुआ है. ऐसा अनुमान है की चीन के हुनान मीट बाजार से यह वायरस लोगों तक फ़ैल गया. चीन के अलावा, कोरोना वायरस की थाईलैंड, वियतनाम, ताइवान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, नेपाल, जापान, अमरीका, ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस में मौजूदगी का पता चला है. अभी तक चीन में लगभग 1800 लोगों की इस वायरस से मौत हो चुकी है.

चीन इस महामारी से सबसे ज़्यादा प्रभावित है. चीन की अर्थव्यवस्था को इसकी वजह से एक बड़ा झटका लगा है. चीन का मेन्यूफेक्चरिंग और सप्लाई चेन व्यवसाय इस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है.