ब्राज़ील पुलिस की नशे के तस्करों पर सरेआम गोलीबारी , 25 लोगों की मौत

ब्राज़ील के रियो डी जेनेरियो शहर में एक गोलीबारी की घटना में एक पुलिसकर्मी समेत कम से कम 25 लोगों की मौत हुई है. स्थानीय मीडिया के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि नशा तस्कर अपने गिरोहों में बच्चों को भर्ती कर रहे हैं जिसके बाद पुलिस ने यह अभियान शुरू किया. बताया जा रहा है कि पुलिस की कार्यवाही के दौरान कुछ खतरनाक अपराधी भागने का प्रयास कर रहे थे, जिसके बाद पुलिस ने भारी गोलीबारी शुरू कर दी. इस गोलीबारी में दो आम नागरिक जो मेट्रो ट्रैन से यात्रा कर रहे थे, घायल हुए हैं.

एमनेस्टी इंटरनेशनल ब्राज़ील के कार्यकारी निदेशक जुरेमा वर्नेक ने कहा “इस पुलिस ऑपरेशन में मारे गए लोगों की संख्या निंदनीय है. 2005 में रियो के बाक्साडा फ्लुमिनेंस में 29 लोगों की मौत हो गई थी. पुलिस प्रमुख रोनाल्डो ओलिवेरा ने रॉयटर्स को बताया “यह रियो में एक पुलिस ऑपरेशन में सबसे अधिक मौतें हैं.

कई लोगों ने सोशल मीडिया में मारे गए लोगों की लाशें और खून की तस्वीरें साझा की हैं. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सार्वजनिक मंत्रालय ने ऑपरेशन को मंजूरी दी थी. लेकिन मानव अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था सेंटर फॉर स्टडीज ऑन पब्लिक सिक्योरिटी एंड सिटिजनशिप ने दावा किया कि मंत्रालय को आपरेशन के तीन घंटे बाद ही इसकी सूचना मिली थी. ह्यूमन राइट्स वॉच की एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल रियो पुलिस बल द्वारा 1,200 से अधिक लोग मारे गए थे. मारे गए लोगों में से अधिकांश गरीब और निचले वर्ग के लोग हैं.

शहर के जकारेज़िन्हो इलाक़े की झुग्गी-बस्ती में एक पुलिस ऑपरेशन के दौरान यह घटना हुई है. रियो डी जेनेरियो ब्राज़ील के सबसे हिंसक राज्यों में से एक है और इसका अधिकतर हिस्सा अपराधियों के नियंत्रण में है जिनमें से अधिक लोग शक्तिशाली नशा तस्कर गिरोहों से जुड़े हुए हैं. यह रियो में 16 सालों में सबसे घातक पुलिस ऑपरेशन माना जा रहा है.